Skip to main content

Posts

FEATURED ARTICLES

Metamorphosing Sociopolitical Matrix of India under rule of East India Company

Metamorphosing Sociopolitical Matrix of India under the Regime of East India Company till 1857






Under the colonial rule of the British Imperial Legislative Government and East India Company, the sociopolitical structure of India had undergone a massive change at several levels. East India Company was evolving as a crucial political strength in India by late eighteenth century after deposing prominent regional powers like Bengal, Bombay etc. The Company introduced repressive policies for expansion of territories as elaborated in the article Emergence of East India Company as an Imperialist Political Power in India.
Functioning as an administrative and political entity in India, EIC launched numerous political, social and education-related policies that considerably affected various sections of society like peasants, women, children, industrial sectors and handicrafters. The prime objective of this article is to shed light on the sociopolitical matrix of British India to understand the sta…
Recent posts

Partnership & Work and wages problems tricks in Hindi | fast track formulae for problem solving.

WORK AND WAGES PROBLEMS TRICKS IN HINDI
1). कुल वेतन = कुल दिन × 1 दिन का वेतन
2). यदि X , Y, Z किसी कार्य को d1 , d2 , d3 दिनों में कर सकते हैं, तो उनके वेतनो का अनुपात =       d2d3 : d3d1 : d1d2 
3). यदि A और B किसी कार्य को x और y दिनों में कर सकते हैं, तथा उनके वेतनो का अनुपात y : x है, तो A और B के वेतन क्रमशः , A = y [कुल वेतन/(x+y)] ,              B = x[कुल वेतन/(x+y)]
4). यदि A , B और C किसी कार्य को x,y व z दिनों में कर सकते हैं, तथा उनके वेतनो का अनुपात yz : xz : xy है, तब A , B और C के वेतन क्रमशः -
A = yz [कुल वेतन/(yz : xz : xy)] B = zx [ कुल वेतन/(yz : xz : xy)] C =  xy [ कुल वेतन/(yz : xz : xy)]
5). निश्चित व्यक्ति द्वारा निश्चित कार्य करके कमाया गया कुल वेतन = (1 व्यक्ति का 1 दिन का वेतन) × ( व्यक्तियों की संख्या) × (दिनों की संख्या). तो आवश्यक व्यक्तियों की संख्या =  कुल वेतन/(1 व्यक्ति का 1 दिन का वेतन) × (दिनों की संख्या).
6). A किसी कार्य को x दिन में कर सकता है, तथा B की सहायता से A किसी कार्य को y दिन में कर सकता है, तब A का हिस्सा तथा B का हिस्सा , यदि वे ₹ a प्राप्त करते है…

Was East India Company supremely functioning as a Colonial Trading Group till 1857?

Was British East India Company supremely functioning as a Colonial Trading Group till 1857?

After acquiring the royal charter from the ruler of England in 1600, the British East India Company attained a monopoly on trade with East. The company eliminated competition in business; asserted control over Bengal after Battle of Plassey 1757; achieved Diwani rights ( i.e. revenue collection rights over Bengal, Bihar and Orisha) after Treaty of Allahabad 1765 and emerged as a supreme political power by the middle eighteenth century. But interestingly, the company experienced financial collapse by the second half of the eighteenth century because of nepotism and persistence of corruption in company officials. ( Such corrupt officials were often referred as nabobs- an anglicised form of the nawab.)
British Parliamentary Government investigated the inherent functioning of the company and introduced several acts to induce discipline in the company officials. Regulating Act/ Charter Act (1773):Thi…

True Discount and Banker's Discount problems tricks in Hindi | fast track formulae for problem solving.

TRUE DISCOUNT AND BANKER'S DISCOUNT TRICKS IN HINDI

TRUE DISCOUNT 1). वास्तविक बट्टा = मिश्रधन - वर्तमान धन
2). यदि ब्याज की दर r% वार्षिक , समय t व वर्तमान धन (pw) है, तो वास्तविक बट्टा = PW×r×t/100
3). यदि r% तथा समय t के बाद देय धन A है, तो तत्काल धन pw = 100×A/(100+r.t)
4). यदि देय धन A पर r% व समय t दिए गए है, तो वास्तविक बट्टा = A.r.t /(100+r.t)
5). यदि किसी निश्चित समय के पश्चात निश्चित वार्षिक दर पर, देय धन पर वास्तविक बट्टा (TD) व समान समय व दर के लिए साधारण ब्याज (SI) हैं, तो देय धन A =      SI × TD/(SI - TD)
6). यदि t समय पश्चात r% वार्षिक दर पर, देय धन पर वास्तविक बट्टा (TD) व साधारण ब्याज (SI) है , तो -  SI - TD = TD×r×t/100
7). t वर्ष बाद r% चक्रवृद्धि दर पर देय धन A का तत्काल धन (PW) = A/(1+r/100)^t   व वास्तविक बट्टा = A - PW
BANKER'S DISCOUNT1). महाजनी बट्टा = शेष समय (समाप्त न हुए समय) के लिए बिल पर ब्याज = बिल की राशि × दर × शेष समय /100
2). महाजनी लाभ = महाजनी बट्टा - वास्तविक बट्टा
3). यदि बिल का मान / अंकित मूल्य A है, समय t व दर r% है, तो महाजनी बट्टा = A×r×t/100
4).…

Speed , Distance and Time problems tricks in Hindi | fast track arithmetic formulae for problem solving.

SPEED , DISTANCE AND TIME PROBLEMS TRICKS IN HINDI
1). दूरी = चाल × समय
2). समय = दूरी/चाल
3). चाल = दूरी/समय
4). किलोमीटर को मील बनाने के लिए गुना किया जाता है =       5/8 से
5). मील को किलोमीटर बनाने के लिए गुना किया जाता है =       8/5 से
6). फुट - सेकंड को मील - घंटा बनाने के लिए गुना किया जाता है = 15/22 से
7). मील - घंटा को फुट - सेकंड बनाने के लिए गुना किया जाता है = 22/15 से
8). मी - सेकंड को किमी - घंटा बनाने के लिए गुना किया जाता है = 18/5 से
9). किमी - घंटा को मी - सेकंड बनाने के लिए गुना किया जाता है = 5/18 से
10). यदि एक व्यक्ति दो निश्चित स्थानों के बीच की दूरी a किमी/घंटा की चाल से खत्म करता है, तो t1 घंटे देर से पहुंचता है, तथा जब b किमी/घंटा की चाल से तय करता है, तब वह t2 घण्टे पहले पहुंचता है, तो दोनो स्थानों के बीच की दूरी =     ab(t1+t2)/(b-a) km
11). यदि कोई व्यक्ति a km/h की चाल से चलता है, तो वह अपनी मंजिल पर t1 घंटे लेट पहुंचता है, अगली बार वह अपनी चाल में b km/h की वृद्धि करता है, तो वह t2 घंटे लेट पहुंचता है, तब उसके द्वारा तय की गई दूरी = a(a+b)(t1-t2)/b
12). दो व्यक्ति X …

work and time problems tricks in Hindi | fast track arithmetic formulae for problem solving.

WORK AND TIME PROBLEMS TRICKS IN HINDI
1). यदि एक व्यक्ति किसी कार्य को D दिनों में कर सकता हैं, तो उसका एक दिन का कार्य = 1/D
2). यदि किसी व्यक्ति का 1 दिन का कार्य 1/D है, तो कार्य पूरा करने में लगा हुआ समय = D दिन
3). यदि एक व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति से n गुना तेज है, तो - 
*. पहले तथा दूसरे व्यक्ति का कार्य = n:1 *. पहले व दूसरे व्यक्ति द्वारा कार्य समाप्त करने में लिया गया समय = 1:n
4). यदि A किसी काम को x दिन में व B उसी काम को y दिन में करता है, तो दोनों मिलकर उस काम को करेंगे = xy/(x+y)
5). यदि A व B किसी काम को x दिन में तथा A अकेले उस काम को Y दिन में पूरा करता है, तक B अकेला उस काम को करेगा = xy/(y-x) दिन में
6). यदि A,B व C किसी काम को क्रमशः x,y व z दिन में कर सकते हैं, तो तीनों मिलकर उस काम को पूरा करेंगे =     xyz/(xy+yz+zx)
7). यदि A व B किसी काम को x व y दिन में पूरा कर लेते हैं, तथा एक साथ काम करके Rs x मजदूरी प्राप्त करते हैं, तो -
*. A का भाग = yz/(x+y) रुपए *. B का भाग = zx/(x+y) रुपए
8). यदि A व B किसी काम को x दिन में , B व C उसी काम को y दिन में तथा C व A उसी काम को z दिन …

'Trains' problems tricks in Hindi | Fast track arithmetic formulae for all competitive examination.

'TRAINS' PROBLEMS TRICKS IN HINDI
1). यदि L m लम्बी एक रेलगाड़ी x m लम्बी किसी प्लेटफॉर्म को पार करने में T1 सेकंड का समय लेती है,तब y m लम्बी प्लेटफॉर्म को पार करने में लगा समय = T1(L+y)/(L+x)
2). स्टेशन P व Q से दो ट्रेन क्रमशः a km/h व b km/h की चाल से एक दूसरे की ओर चलती है। जब वे एक दूसरे से मिलती हैं, तो यह पाया जाता है कि एक ट्रेन ने दूसरी ट्रेन से d km ज्यादा दूरी तय की है। तो स्टेशन P व Q के बीच की दूरी = d(a+b)/(a-b)
3). D km दूर स्थित दो स्टेशनो P व Q में , एक ट्रेन a km/h की चाल से स्टेशन P से Q की ओर चलती है, तथा t घंटे की अंतर से दूसरी ट्रेन b km/h की चाल से स्टेशन Q से P की ओर चलती है ,तो वह समय जिसके पश्चात स्टेशन P से चलने वाली ट्रेन , स्टेशन Q से चलने वाली ट्रेन से मिलेगी =     [D+-t.b/(a+b)]
*. ध्यान दें - यदि दूसरी ट्रेन t घंटे बाद चलती है, तो t को धनात्मक लिया जाएगा, और यदि दूसरी ट्रेन t घंटे पहले चलती है, तो t को ऋणात्मक लिया जाएगा।
4). यदि समान लंबाई की किन्तु विभिन्न चलो से गतिमान दो ट्रेन किसी खंभे को पार करने में t1 सेकंड व t2 सेकंड का समय लेती है, तो उनके …

Emergence of British East India Company as an Imperialist Political Power in India

EMERGENCE OF BRITISH EAST INDIA COMPANY AS AN IMPERIALIST POLITICAL POWER IN INDIA
Dynamically changing India during early eighteenth century had a substantially growing economy under the authority of Mughal emperor Aurangzeb. But after his demise in 1707, several Mughal governors established their control over many regional kingdoms by exerting their authority. By the second half of eighteen century, British East India Company emerged as a political power in India after deposing regional powers and dominating over Mughal rulers. The present article attempts to analyze the reasons for emergence of British East India Company as an imperial political power in India and their diplomatic policies of territorial expansion. In addition to this, I briefly highlighted the Charter Acts (1773, 1793, 1813, 1833 and 1853) to trace its impact on the working process of Company.Establishment of East India Company in India

In 1600, British East India Company received royal charter or exclusive license…

Clocks problem tricks in Hindi | Important arithmetic formulae for competitive examination.

ARITHMETIC FORMULAE ON CLOCKS IN HINDI
1). 1 घंटे में मिनट कि सुई द्वारा बनाया गया कोण = 360°
2). 60 मिनट में मिनट कि सुई द्वारा बनाया गया कोण = 360°
3). 1 मिनट में मिनट की सुई द्वारा बनाया गया कोण = 6°
4). 1 घंटे में घंटे की सुई द्वारा बनाया गया कोण = 30°
5). 60 मिनट में घंटे की सुई द्वारा बनाया गया कोण = 30°
6). 1 मिनट में घंटे की सुई द्वारा बनाया गया कोण = 0.5°
7). t व (t+1) बजे के बीच घड़ी की दोनों सुइयां मिलेंगी =         t बजकर (60t/11) मिनट पर
8). t व (t+1) बजे के बीच घड़ी की दोनों सुइयां t बजकर कितने मिनट पर समकोण बनाएंगी = (5t+-15)12/11
9). वह समय जब t व (t+1) बजे के बीच दोनों सुइयां एक ही सीधी रेखा में होगी, (यहां पर दोनों सुइयां सम्मपाती नहीं है)
*. t बजकर (5t-30)12/11 मिनट , (t>6) *. t बजकर (5t+30)12/11 मिनट , (t<6)
10). t व (t+1) बजे के बीच का वह समय जब घड़ी की दोनों सुइयां परस्पर x मिनट की दूरी पर होगी। 
*. यदि मिनट की सुई आगे है, तब =       t बजकर (5t+x)12/11 मिनट
*. यदि घंटे की सुई आगे है तब =       t बजकर (5t-x)12/11 मिनट
11). घड़ी के दोनों सुइयों के बीच का कोण -
*. जब घंटे की सुई…

Three dimensional geometry (part-1), Lines | study material for IIT JEE | concept booster , chapter highlights.

THREE DIMENSIONAL GEOMETRY

ORIGIN
In the following diagram X'OX , Y'OY and Z'OZ are three mutually perpendicular lines , which intersect at point O. Then the point O is called origin.
COORDINATE AXES 
In the above diagram X'OX is called the X axes, Y'OY is called the Y axes and Z'OZ is called the Z axes.
COORDINATE PLANES 
1). XOY is called the XY plane. 2). YOZ is called the YZ plane. 3). ZOX is called the ZX plane.
If all these three are taken together then it is called the coordinate planes. These coordinates planes divides the space into 8 parts and these parts are called octants.
COORDINATES  Let's take a any point P in the space. Draw PL , PM and PN perpendicularly to the XY, YZ and ZX planes, then
1). LP is called the X - coordinate of point P. 2). MP is called the Y - coordinate of point P. 3). NP is called the Z - coordinate of the point P.
When these three coordinates are taken together, then it is called coordinates of the point P.
SIGN CONVENTI…