Sanskrit Class 10 Sample paper MCQ(s) Quiz-3 Term 1 2021-22

SHARING INCREASES KNOWLEDGE

Here, we are providing Another quiz on Sanskrit Class 10 Sample paper This MCQ(s) quiz is based on the entire syllabus of Sanskrit class 10. Attempt this Sanskrit class 10 quiz and check your subject understanding. I hope this quiz will help you in the way of your preparation.

Stay up to date with Laws Of Nature for more quizzes on different subjects and topics.

23
Created on
Sanskrit term 1 Sample Paper- 2021 22

सस्कृतम्‌ कक्षा 10 (TERM 1) mock 3

निर्देश
» इस ग्रश्न-पत्र में दो खण्ड हैं--'अ' (अनुप्रवुक्त-व्याकरणम्‌) और 'ब' (पठितावबोधनम्‌)
खण्ड अ' में कुल 7 कस्तुनिष्ठ प्रश्न पूछे गए हैं। सभी प्रश्नों में उपग्रश्त दिए गए हैं, दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए
अश्नों के उत्तर दीजिए।
* खण्ड 'ब' में कुल 3 वस्तुनिष्ठ गश्न पूछे गए हैं। प्रश्नों में विकल्प दिए गए हैं। दिए गए निर्देशों का प्रालन करते
हुए ग्श्नों के लिए सही विकल्प चुनिए।

tail spin Sanskrit Class 10 Sample Paper

1 / 45

अधोलिखितवाक्येषु रेखाड्लितपदस्य सन्धिपदं सन्धिच्छेदपदं वा चिनुत (केवल प्रश्नचतुष्टयम्‌)
(निम्नलिखित वाक्यों में रेखांकित पदों की सन्धि अथवा सन्धि विच्छेद करके उचित पद चुनिए।)

जगत्‌ + नाथः चतुर्भुजो अस्ति।

2 / 45

अधुना वागीश: विद्यालये अस्ति।

3 / 45

कीटो5पि सुमन: सज्भात्‌ सतां शिर: आरोहति।

4 / 45

जगदीश्वरः बालकान्‌ रक्षति।

5 / 45

अस्मिन्‌ बने तु मृगा: + चरन्ति

6 / 45

अघोलिखितवाक्येषु रेखा्लितपदानां समासं विग्रह वा प्रदत्तविकल्पेभ्य: चिनुत (केवल प्रश्नचतुष्टयम)
(निम्नलिखित वाक्यों में रेखांकित पदों का समास अथवा समास विग्रह दिए गए विकल्पों में से चुनिए।) (केवल चार प्रश्न)

मातापितरौ पूजनीयौ।

7 / 45

सः कृष्णभक्तः अस्ति।

8 / 45

शरणागतस्य॒ रक्षां कुरू

9 / 45

श्रौराम:मृगस्य पश्चातु धावति।

10 / 45

अघोलिखितवाक्येषु रेखाद्वितपदानां प्रकृति-प्रत्ययौ, संयोज्य विभज्य का उचितम्‌ उत्तर विकल्पेष्य चिनुत (केवल ग्रश्नचतुष्टयम
(निम्नलिखित बाक्यों में रेखांकित पदों की प्रकृति-प्रत्ययों को जोड़कर अथवा अलग करके उचित उत्तर विकल्पों में से चुनिए)

श्रद्धा + मतुपु ज्ञानं लभते।

11 / 45

मनुष्य जौवने परिश्रमस्थ महत्त्व॑ भवति।

12 / 45

गुण + मतुपु सत्र पूज्यते॥

13 / 45

बालिकया माता चतुर + टापु अस्ति।

14 / 45

वीर + त्व पुरुषस्य भूषणम्‌।

15 / 45

वाच्यस्य नियमानुगुणम्‌ उचित विकल्प॑ चितुत। (केबल प्रश्नत्रयम्‌) गा]
(बाच्य के नियमानुसार उचित विकल्प चुनिए।)

रमा-सीते ! त्व॑ कुत्र......

16 / 45

सीता-स्मे! मया ........ गम्यते।

17 / 45

रमा-किं त्वं तत्र संस्कृत

18 / 45

सीता-आम्‌ ......... तत्र संस्कृतम्‌ पद्यते।

19 / 45

प्रदत्तजिकल्पेध्य: समुचितम्‌ कालबोधकशब्दं चिनुत। (केबल प्रश्नचतुष्टयम्‌)
(दिए गए विकल्पों में से उचित कालबोधक शब्द चुनिए।)
मैद्रोरेलयान .............. (8:00 प्रातः) बादने शहादरा मैट्रोरेलस्थाने तिष्ठति॥

20 / 45

एठत.................. (9:30) बादने तौस हजायाम्‌ आगच्छति।

21 / 45

एतत्‌ ““........" (12:30) बादने आनन्दविहार स्थाने आगच्छति।

22 / 45

वाक्‍्यानुगुणम्‌ उचिताव्ययपद चिनुत-(केवल प्रश्नत्रयम्‌)
(वाक्य के अनुसार उचित अव्यय पद चुनिए।)

अपि कुमारयोरनयोरस्मा्क ............. सर्वधा समरूप: कुदुस्बवुततात

23 / 45

गुणमहताम्‌.......... शिशुजनो लालनीय एव भवति॥

24 / 45

तत्र गतस्थ सा सम्मुखमपीक्षते यदि,........ त्वयां अहं हन्तव्य: इति।

25 / 45

अहं .........समय न यापयामि।

26 / 45

अघोलिखितवाक्येपु रेखाड्लितपदम्‌ अशुद्म्‌ अस्ति। शुद्ध पद विकल्पेभ्य: चिनुत।  (निम्नलिखित बाक्यों में रेखांकित पद अशुद्ध हैं। शुद्ध पद विकल्पों में से चुनिए।)
द्वौ छात्रौ गच्छति

27 / 45

सः बालिका भोजन खादति।

28 / 45

अहूं पत्र लिखाव:।

29 / 45

राम: अतीब वीरा: अस्ति।

30 / 45

रेखाज्लितपदानि आधृत्य समुचितम्‌ प्रश्ववाचकपद चिनुत
(रेखांकित पदों के आधार पर समुचित प्रश्नवाचक पद चुनिए)
सा राजसिंहस्य॒ भार्या आसीत्‌।

31 / 45

ब्याघ्रमारी तूर्ण घाविता।

32 / 45

सम्भ्रमितजनेभ्य: सुखसन्‍्देशं प्रदत्तम्‌।

33 / 45

पाषणी सभ्यता निस्रगे  समाविष्टा न स्यात्‌

34 / 45

लबकुशौ च भ्रातरौ आस्ताम्‌॥

35 / 45

. अधोलिखितवाक्येषु रेखाड्लितपदानां प्रसज्ञानुकूलम्‌ उचितार्थं चिनुत
- (निम्नलिखित बाक्यों में रेखांकित पदों के प्रसंगानुकूल उचित अर्थ चुनिए)

मनः शोषयत्‌ तनु: पेषयद्‌ भ्रमति सदा बक्रम्‌।

36 / 45

गच्छ; गच्छ जम्बुक।

37 / 45

मार्गे गहन कानने सा एकं व्याप्र॑ ददर्श।

38 / 45

भाषिककार्यसम्बद्धानां प्रश्नानां समुचितम्‌ उत्तरं विकल्पेभ्य: चिनुत
(भाषिक कार्य से सम्बन्धित प्रश्नों के समुचित उत्तर विकल्पों में से चुनिए)

“मानवाय जीबन॑ कामये नो जीवन्मरणम्‌।” अस्मिन्‌ वाक्ये 'मरणम्‌' पदस्य बिलोम पद किम्‌?

39 / 45

“प्रस्तरतले लतातरुगुल्मा नौ भवन्तु पिष्टा:।"

अस्मिन्‌ बाकये 'भवन्तु' इति क्रियाया: कर्तृपदं किम्‌?

40 / 45

“थुष्माद्दर्शनात्‌ कुशलमिब।" बाक्येस्मिन्‌ 'युष्मत्‌' इति सर्वनामपर्द काभ्यां प्रयुक्तम्‌?

41 / 45

“लब श्रातराबाबां सोदयौं।” अस्मिन्‌ बाक्ये सहोदरौ। इति पदस्य पर्यायपर्द किम्‌?

42 / 45

“तत्र राजसिंहः नाम राजपुत्र: बसति स्म।” अस्मिन्‌ बाक्ये क्रियापद किम?

43 / 45

“भयाकुल व्याप्र दृष्ट्वा कश्चित्‌ धूर्त: श्रृगाल: हसन्नाह।” अस्मिन्‌ वाक्ये विशेष्य पद किम्‌?

44 / 45

) “मां निजगले बद्ध्वा चल सत्वरम्‌/" वाक्येउस्मिन्‌ 'शीघ्र” इति पदस्ययार्थे किं पर प्रयुक्तम्‌?

45 / 45

“पुत्रस्य दैन्यं दृष्ट्वा अहं रोदिमि।" अस्मिन्‌ वाक्ये क्रियापदं किम्‌?

Your score is

The average score is 59%

0%

SHARING INCREASES KNOWLEDGE

Newsletter Updates

Enter your email address below to subscribe to our newsletter

Leave a Reply

Your email address will not be published.